Home Android tips What is phone root kya hai और इसे rooting क्यों कहते हैं

What is phone root kya hai और इसे rooting क्यों कहते हैं

SHARE
Phone rooting kya hai aur este rooting kyu kahate hai hindi me

Smartphone यानी android rooting ये बहुत ही आम बात हो गयी है, हर कोई अपने फ़ोन को रुट कर लेते है ताकि वो फ़ोन को उसकी हद तक इस्तेमाल कर सके पर rooting क्या होता है और इसे ऐसा क्यों कहते है वो आज हम समझेंगें इस पोस्ट के जरिए – what is phone root kya hai और इसे रूटिंग क्यों? कहते हैं. Also read:- आधार कार्ड ऑनलाइन डाउनलोड कैसे करें? How to download aadhaar card copy हिंदी में

What is android phone rooting in hindi

जब आप कोई एंड्राइड फ़ोन को खरीदते हैं तो मन मे यही चलता है कि इसमें आप जो चाहे वो कर सकते है अपने मन मुताबिक, यह एक ओपन प्लेटफॉर्म है पर जब आपके पास हाथ मे फ़ोन आता हैं तो कुछ फ़ीचर्स आपको पहुत पसंद आता है पर कुछ ऐसे होते है जो आप चाह कर भी एक्सिस नही कर पाते आप उसमे ज्यादा कुछ बदलाव नही कर पाते Ex: ram define और over clocking, etc.

Tips for you:

 

अब ऐसे में आपके मन मे यही चल रहा होगा कि तो कुछ लोग ऐसे काम किस तरह से कर पाते है और अपने फ़ोन में अलग अलग फ़ीचर्स को यूज़ कर पाते हैं. तो आपको ये बात दु की भले आप आपका Smartphone एक open platform है और IOS यानी I phone से ज्यादा custo-mizable है, पर फिर भी आप अपने फ़ोन को पूरी तरीके से एक्सिस नही कर सकते है क्योंकि ये आपके फ़ोन निर्माता केकंट्रोल में होता हैंवो जितना चाहेगा उतना ही आप यूज़ कर सकते हैं और जो दूसरे लोग अपने फ़ोन में अतिरिक्त फ़ीचर्स का उपयोग करते हैं वो phone rooting का कमाल हैं. तो चलिए अब सबसे पहले समझते है कि what is phone root kya hai.

 

What is phone root kya hai ?

 

दोस्तो इसे समझना ज्यादा मुश्किल नही हैं, क्योंकि जब एक फ़ोन का निर्माण होता है तब स्मार्टफोन निर्माता उसमे एक operating system को install करता हैं अब चूंकि android ek open platform hai तो कंपनी अपनी जरूरत के मुताबिक ही उसमे बदलाव करती हैं वे OS using Limitation को लिमिटेड ही रखती हैं ताकि आप उसको उतना ही यूज़ करें जितना उसको एक्सिसबिलिटी दी गयी हैं. 

 

पर लोग क्या करते है उसको अपने मुताबिक यूज़ करने के लिए फ़ोन को उसकी हद से ज्यादा इस्तेमाल करते है’ phone ko root karke. Phone rooting के बाद फ़ोन आपको एक सुपर यूज़र बना देता हैं, आप वो सब करने में सक्षम हो जाते है जिनको करने से रोकने के लिए कंपनियों ने रोक रखा था. फ़ोन का पूरा पॉवर उसकी उपयोगिता और परफॉर्मेंस सब कुछ पहले से बेहतर और एडवांस्ड हो जाता हैं.

Phone rooting kya hai aur este rooting kyu kahate hai hindi me

 

दोस्तो, सायद आप के मन में ये सवाल चल रहा होगा कि अगर phone ko root करने के बाद अगर इतना कुछ करना आसान हो जाता है तो हम ऐसा क्यों नही कर सकते हैं मैं इसका जवाब लास्ट में दूंगा. अब दूसरा खयाल मन में ये आता है कि क्या? Phone rooting के बाद का operating software android नहीं रहता है? तो मैं आपको बता दु की सॉफ्टवेयर तो आपके फ़ोन का वही रहता हैं, जो है पर जो बदल जाता है वो है इसका custom rom data.

Rooting के बाद आपका साधारण सा android phone थोड़ा ज्यादा एडवांस्ड हो जाता हैं ये एडवांस्ड इसलिए हो जाता है क्योंकि अब आप अपने जरूरत के हिसाब से फ़ीचर्स को सेट कर सकते हैं, आप चाहे तो power button पर camera सेट कर सकते है तो वही volume button पर power बटन अब यहां पर कुल मिलाकर phone rooting के बाद सारी power आपके पास आ जाती हैं.

 

क्यों? कहते हैं Rooting

Android smartphone लाइनक्स पर बेस्ड है और root शब्द यूनिक्स यानी लाइनक्स से ही आया हैं. सबसे पहले लाइनेक्स और यूनिक्स दोनों कंप्यूटर में उपलब्ध OS को हटा कर custom OS डालने का ऑप्शन दिया और फिर इसके माध्यम से ही यूज़र्स को ये पावर दी जिस से की वो खुद से आने PC के सभी फाइल्स और प्रोग्रामिंग में बदलाव करने का अधिकार मिला.

यही अधिकार अब आपको आपके एंड्राइड स्मार्टफोन में मिलता है जिसके बाद आप phone को root करके आप अपने सभी फाइल्स, फ़ोल्डर्स, सभी सॉफ्टवेयर और इसके यूज़र इंटरफ़ेस तक को कोड में बदलाव कर सकते हैं

कुल मिलाकर phone rooting के बाद आप इसका पूरा इस्तेमाल कर सकते है रूटिंग का आशय है जड़ और rooting के बाद आप OS के जड़ तक बदलाव कर सकते हैं.  फ़ोन को रुट करने के साथ ही आप administrator rights अर्थात आप स्मार्टफोन का शासन प्रबंध अब फ़ोन निर्माता के पास ना राह कर वो 78सारे राइट्स अब आपके पास आ जाता है.

 

फ़ोन को root क्यों? नही करना चाहिए

दोस्तो फ़ोन को रुट करने के जितने फायदे है उतने ही नुकसान भी है मैं आपको shortcut में समझता हूं. फ़ोन को खरीदने के बाद आपको इसके साथ बिल भी मिलता है, जिसमे इसकी वारंटी मिलती हैं सबसे पहले तो वो आपकी वारंटी खत्म हो जाएगी. जो कंपनी के साथ मिलती है और साथ ही rooting करते इस बात का कोई भरोसा नही होता है कि आपका फ़ोन सलामत रहेगा क्योंकि phone rooting कोई मजाक नही हैं.

मैं टेक्निकली अगर बताऊंगा तो पोस्ट ज्यादा लंबी हो जाएगी बस आप इतना समझ लीजिये की आप एक तरफ से कुछ अच्छा पाएंगे तो दूसरी तरफ से खो भी देंगें. I hope आपको मेरी बातें समझ मे आ गयी होगी की what is phone root kya hai.

आज के लिए बस इतना ही, आपको ये पोस्ट कैसा लगा अपनी राय जरूर दे और क्या आपने भी अपना phone root कर रखा है? मुझे comment करके जरूर बताएं. आप मुझसे सोशल मीडिया साइट्स पर भी जुड़ सकते हैं।

धन्यवाद आपका समय शुभ हो..।।।

SHARE
Previous article78 useful-full form of words की जानकारी
Next articleHow to delete facebook account हिंदी में step by step
Deepak Singh
नमस्ते, मेरा नाम दीपक सिंह हैं और मैं यहां सभी प्रकार की जानकारियां शेयर करता हूं। मैं यहां Latest Tech News, Tech Tips, Tips & Tricks और Blogging से संबंधित सभी प्रकार की जानकारियो को शेयर करता हूं, आप मुझ से किसी भी तरीके की सहायता के लिए कॉन्टैक्ट फॉर्म से संपर्क कर सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here