Home Extra Learning ISRO क्या हैं और इसका इसिहास क्या हैं? इसरो स्थापना कब हुई थी?

ISRO क्या हैं और इसका इसिहास क्या हैं? इसरो स्थापना कब हुई थी?

SHARE
ISRO क्या हैं और इसका इतिहास क्या हैं?
नमस्कार दोस्तों, कैसे है आप सब क्या आप जानते है कि क्या हैं और इसका इतिहास क्या हैं? आज के इस पोस्ट में आपको ऐसे ही कुछ Intresting सवालों के जवाब मिलने वाले हैं। साथ ही हम जानेंगे कि ISRO की स्थापना कब हुई थीं और इसका मुख्यालय कहा पर हैं?

 

ISRO क्या हैं? पिछले बीते कुछ सालों से ISRO (Indian Space Research Organization) ने बहुत सी उपलब्धियों को प्राप्त किया हैं, साथ ही साइंस ने इस क्षेत्र में बहुत से कामयाबियों को भी पाया हैं। अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में ISRO ने इंडिया का नाम बहुत ऊंचा किया हैं, जिसकी वजह से भारत आज एक गौरवशाली देश बन कर उभर रहा हैं। इसकी कई रीसर्च और तकनीक और साथ ही नई कामयाबियों के साथ यह और भी बेहतर बन कर सामने आ रहा हैं।

ISRO क्या हैं और इसका इतिहास क्या हैं?

तो चलिए आज इस पोस्ट में हम ऐसे ही ISRO से जुड़े कुछ जरूरी बातो के बारे में जानने वाले है जैसे कि ISRO क्या हैं और इसका इसिहास क्या हैं? इसरो स्थापना कब हुई थी? आप पोस्ट को पूरा पढ़ते रहिए और कोई बात संख न आने पर कमेंट करके जरूर पूछें।

ISRO क्या हैं? (What Is ISRO In Hindi) –

जैसा कि इसके नाम से पता चलता है ISRO (Indian Space Research Organization) इसका प्रमुख काम भारत को अंतरिक्ष से जुड़ी तकनीक और नई उप्लब्धियों को उपलब्ध करवाना हैं। भारत मे ISRO के 40 से ज्यादा केंद्र मौजूद हैं जिनमे लगभग 17 हजार वैज्ञानिक काम करते हैं।

 

इसरो के द्वारा किए गए कार्यो में शामिल है Lauch Vehicles  और Rockets को बनाना यानी विकास करना। यहां Rocket उस यान को कहते हैं, जिस पर किसी यान या Satellite को लॉच करते हैं, ISRO के पास ऐसे 2 मुख्य रॉकेटस हैं जिनके नाम PSLV (Polar Satellite Kuch Vehicle) और GSLV (Geosynchronous Satellite Launch Vehicle) हैं।

ISRO क्या हैं और इसका इतिहास क्या हैं?

इसमे से जो PSLV है उसका प्रयोग छोटे और हल्के रॉकेट को लॉच करने के लिए लिया जाता हैैं। इसकी मदद से अभी तक 70 से ज्यादा उपग्रह अभी तक अंतरिक्ष मे छोड़े गए हैं। वहीं GSLV का प्रयोग भारी और वजन दार उपग्रहों को छोड़ने यानी लॉच करने के लिए उपयोग में लिया जाता हैं जिसकी दूरी लगभग पृथ्वी से 36 हजार किलोमीटर की ऊंचाई पर होती हैं।

ISRO की उपलब्धियां –

इसरो द्वारा किए गए चंद्रयान -1  अभियान के अंतर्गत ISRO ने मानवरहित यान को Research करने के लिए चाँद पर भेजा था, जिसे चंद्रयान -1 ने सिर्फ 10 महीनों में ही काम खत्म कर लिया था। इसकी वजह से ही भारत ने चाँद पर पानी की खोज किया था, जिसके बाद भारत चाँद पर पानी खोजने वाला पहला देश बन गया।

ISRO का मुख्यालय कहां हैं? और इसका स्थापना कब हुआ था किसने किया था?

ISRO :- Indian Space Research Organization जिसे हिंदी में “भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन” कहते हैं. इसका  प्रमुख मुख्यालय बेंगलुरु कर्नाटक में स्थित हैं। और इसरो की  स्थापना 15 अगस्त सन 1969 को किया गया था। जिसको स्थापित करने वाले Dr. Vikarm Sarabhai थे, इसको इन्होंने स्थापित किया था।

History Of ISRO का इतिहास –

ISRO क्या हैं और इसका इतिहास क्या हैं?
चलिए अब इसरो के इतिहास के बारे मेंं जानते हैं, ISRO की स्थापना विक्रम साराभाई ने किया था जिसकी वजह सेे इनको इसरो का जनक भी कहा जाता है। इसरो को अंतरिक्ष विभाग के द्वारा नियंत्रण किया जाता हैं, इसकी कमांड इनके पास ही होती हैं।

 

19 अप्रैल 1975 को ISRO ने अपना पहला उपग्रह लॉच  किया था जिसका नाम आर्यभट्ट रखा गया था, ये इसरो की पहली सफलता थी उसके बाद सन 1979 तक इसरो पहला पूर्ण स्वदेशी सैटेलाइट बनाने में कामयाब हुआ था पर उसको लॉच करने के लिए दूसरे देशों की मदद लेनी पड़ी थी।

 

लेकिन फिर 1980 का दसक आने के बाद इसरो ने अपना खुद का Satellite बनाकर इसे Space में सफलता पूर्वक लॉच कर दिया, जो मंगलयान की शरुआती अंतरिक्ष के इतिहास में भारत के लिए सबसे गौरवशाली समय रहा हैं।

ISRO द्वारा मंगल मिशन –

इस मंगल यान के पहले ही प्रयास में इसरो का ये प्रयास सफल रहा था और फिर भारत पहले ही प्रयास में मंगल ग्रह तक पहुचने वाला पहला देश बन गया। 5 नवंबर 2013 को मंगलयान को लांच किया गया था जो कि 6660 लाख किलोमीटर की यात्रा करके 24 September 2014 को सफलतापूर्वक मंगल ग्रह के कक्षा में प्रवेश कर गया था।

 

साथ ही भारत द्वारा किये गाए प्रयोसो में भारत मे अपना खुद का GPS System इजाद किया जिसे स्थापित करने के लिए 2016 में सफलता के साथ लॉच कर दिया गया, यह GPS SatelliteNAVIC” था जिसका पूरा नाम – Navigation With Indian Constellation हैं।

 

इसी स्तर में बढ़ते हुए 15 February 2017 में PSLV -C37 के द्वारा 104 Satellites को एक साथ पृथ्वी की कक्षा में स्थापित किया गया और फिर एक बार फिर से भारत देश एक साथ सबसे ज्यादा Satellite ले जाने वाला पहला देश बन गया साथ ही इसने नया World Record भी कायम किया।

Conclusion :-

इस पोस्ट के जरिए मैंने आपको यह बताने की कोसिस की हैं कि ISRO क्या हैं और इसका इसिहास क्या हैं? इसरो स्थापना कब हुई थी? और इसके अहम कार्य कौन-कौन से रहे हैं। भारत के लिए ये Space से जुड़े कुछ अहम मिशन रहे है जिसने भारत का नाम दुनियाभर में गौरवशाली बनाएं रखने में मदद किया हैं।

 

आपको ये पोस्ट कैसा लगा मुझे कमेंट करके जरूर बताएं और पसंद आये तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें। मुझे उम्मीद है कि आप समझ गए होंगे कि ISRO क्या हैं और इसका इसिहास क्या हैं? इसरो स्थापना कब हुई थी? ऐसे ही जानकारियों के लिए यहां आते रहे और अब आप मुझसे Facebook Page के जरिए जुड़ सकते हैं। धन्यवाद आपका समय शुभ हो।।जय हिंद।।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here